चीन के बूरे दिन शुरू, करोड़ों के विदेशी कर्ज में डूबा है चीन, 2022 तक दशा हो जायेगी खराब

स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ फॉरेन एक्सचेंज द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, दूसरी तिमाही में चीन पर कर्ज का बोझ बढ़कर 1.56 ट्रिलियन डॉलर हो गया है। यानी चीन का बकाया विदेशी कर्ज 8% बढ़कर 1560 बिलियन डॉलर हो गया है। साथ ही भारत की स्थिति बेहतर है। हालांकि, पिछली तिमाही की तुलना में जून के अंत में कर्ज का बोझ 3 प्रतिशत बढ़कर 485.8 बिलियन डॉलर हो गया। आईएमएफ की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले साल चीन का कुल कर्ज जीडीपी का 235% था। अगर इसी तरह से कर्ज बढ़ता रहा, तो 2022 तक चीन पर कुल कर्ज जीडीपी का 300% होगा। यह चीन के लिए बड़ा संकट बन सकता है सबसे अच्छा पोर्टल है जिसके माध्यम से आप अपने दोस्तों और अपने आस-पास के सभी लोगों के साथ दिलचस्प समाचार, फ़ोटो और वीडियो साझा कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *