क्यों होते है जुड़वा बच्चे ? क्या होता है इसके पीछे का मुख्य कारण

अक्सर आप जुड़वा बच्चों के बारे में सुनते होंगे। कई लोगों में जुड़वा बच्चो की चाह भी होती है। इसके साथ ही लोगों के मन में ये जिज्ञासा भी रहती है कि आखिर जुड़वा बच्चे क्यों और कब होते हैं। जुड़वा बच्चे पैदा होने के पीछे कई मिथक भी प्रचलित हैं। वहीं इसके कुछ साइंटिफिक कारण भी हैं। जुड़वा बच्चों को लेकर और भी कई कौतुहल लोगों के मन में बना रहता है। आज हम आपको बताएंगे आखिर क्यों और कब पैदा होते हैं जुड़वा बच्चे

डायजाइगॉटिक जुड़वा बच्चों का निर्माण तब होता है, जब स्त्री दो अलग-अलग पुरुषों के शुक्राणु से दो अलग-अलग अंडकोशिका में शुक्राणु को निषेचित करती है। इससे स्त्री के गर्भ में 2 अलग शुक्राण के 2 अलग अंडे बनते हैं। ये जुड़वा बच्चे स्त्री व पुरुष के एक बार के सहवास क्रिया में ही हो जाते हैं। महिलाओं के डिंबाशय में हर महीने एक नए डिंब/अंडकोशिका का निर्माण होता है, वहीं पुरुष शुक्राणु अनगिनत होते हैं।

संयोगवश कभी-कभी स्त्रियों में 2 अंडकोशिका का प्राकृतिक रूप से भी निर्माण हो जाता है, जिसमें 2 अलग-अलग शुक्राणु के 2 बच्चे जन्म लेते हैं। ये बच्चे थोड़-थोड़े समय के अंतर पर पैदा होते हैं। क्योंकि ये जुड़वा बच्चे अलग-अलग अंडे में होते हैं, इसलिए ये एक-दूसरे से अलग होते हैं। इनकी आदतें और शक्ल एक-दूसरे से नहीं मिलती।

99 Replies to “क्यों होते है जुड़वा बच्चे ? क्या होता है इसके पीछे का मुख्य कारण”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *